[1]
शान्तनु पाठक, “गोंड जन-जाति एवम् भारिया जन-जाति में गोदना का स्वरूप एवं विष्वास का महत्व”, AJEEE, vol. 5, no. 10, pp. 20-31, 1.