संगठित क्षेत्र में महिलाओ की सहभागिता एवं समायोजन एक अध्ययन

महालक्ष्मी सोलंकी

Abstract


शोध सारांश:- देश की प्रगति और विकास मे महिलाओ की सहभागिता महत्वपूर्ण है। महिलाए पुरूषो के साथ समानता से कार्य करती है वर्तमान मे महिलाओ के प्रति रूढ़िवादी दृष्टिकोण मे परिवर्तन आया है। समाज मे सभी क्षेत्रों मे पुरूष और महिला दोनो के लिए समानता होना आवश्यक है देश समाज और परिवार के उज्जवल भविष्य के लिए महिलाओ को स्वच्छ और उपयुक्त पर्यावरण आवश्यक है ताकि वह प्रत्येक क्षेत्र मे स्वयं निर्णय ले सके देश को पुरी तरह से विकसित बनाने तथा विकास के लक्ष्य को पाने के लिए महिला सशक्तिकरण आवष्यक है। महिलाए उच्च पदो पर आसीन होकर विभिन्न क्षेत्रों मे अपना वर्चस्व स्थापित कर महिला सशक्तिकरण मे अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

Full Text:

PDF

References


डांॅ मुखर्जी, रवीन्द्रनाथ - सामाजिक शोध एवं सांख्यिकी विवेक प्रकाषन, जवाहर नगर दिल्ली-7

नायक, जी. सी. - ”बडौदा के एम. एम. विष्वविद्यालय के षिक्षण सदस्यो की व्यवसायिक संतुष्टि“ 1990 पृष्ठ 36

माथुर, दीपा - ”वूमेन फैमेली एन्ड वर्क“ रावत, पब्लिकेषन जयपुर, 1993, पृष्ठ 29

कपूर, प्रमीला - ”द चेन्जिंग स्टेटस आॅफ द वर्किग इंडिया“ विकास पब्लिषिंग हाउस, नई दिल्ली 1970

www.essaysinhindi.com>working-women

shodhganga.inflibnet.ac.in


Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Copyright (c) 2020 महालक्ष्मी सोलंकी