निजी क्षेत्र की आई.सी.आई.सी.आई. बैंक द्वारा प्रदत्त आवासीय ऋण का अध्ययन

Dr. Rajenra Sharma Purnima Bihani

Abstract


सारांश- आवासीय ऋण की इस उपलब्धता को बनाये रखने में निजी बंैकिंग सस्थाओं की विशेष भूमिका होती हैं क्योंकि बैंकिंग सस्ंथाए ही अर्थव्यवस्था कषि, उद्योग, आवासीय ऋण, व्यापार तथा सेवा सभी क्षेत्रों के लिए आवश्यक पूंजी उपलब्ध कराती हैं। प्रश्नावली में उत्तरदाताओं से आवास ऋण प्रक्रिया से संबंधित प्रश्न पूछे गये ताकि विभिन्न ऋण योजनाओं की जानकारी प्राप्त आवास ऋण लेने के क्या कारण हो सकते है जिससे प्रस्तुत शोध को नया आयाम प्राप्त हो सका।

Full Text:

PDF

References


शिखा त्रिवेदी (2017) द्वारा ’’मध्यप्रदेश में विकास प्राधिकरण की आवासीय योजनाअ¨ं का अध्ययन’’ Urban India, Volume xxix, January – June , 2017.

पुष्पा सांगवान (2012) भारत में सार्वजनिक एवं निजी बैंक के आवास वित्त का तुलनात्मक विष्ल्¨षण, इंडियन जर्नल ऑफ इक¨न¨मिक्स 9 (5) पृष्ठ- 99।

एस. राजलक्ष्मी एवं ए. वैंकेटेष द्वारा (2017) टुभुकुडी क्ष्¨त्र्ा (तमिलनाडु) में सार्वजनिक बैंक एवं निजी बैंक के आवास वित्त ऋणिय¨ं का अध्ययन। इक¨न¨मिक एण्ड प¨लिटिकल वीकली, मार्च 26, पृष्ठ 640।

www.icici.org


Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Copyright (c) 2020 Dr. Rajenra Sharma Purnima Bihani