भारतीय समाज में महिलाओं की स्थिति एवं सामाजिक समस्यायें

Jyoti Solanki

Abstract


किसी भी सभ्य समाज की स्थिति उस समाज में स्त्रियों की दशा देखकर ज्ञात की जा सकती है। महिलाओं की स्थिति में समय-समय पर देश काल के अनुसार परिवर्तन होता रहा है। समय के साथ भारतीय समाज में अनेक परिवर्तन हुये जिससे महिलाओं की स्थिति में दिन-प्रतिदिन गिरावट आती गई तथा गरीब महिलाओं पर इसका अधिक प्रभाव पड़ा, क्योंकि सैकड़ों वर्षों की परतन्त्रता के कारण भारतवर्ष विश्व के सबसे गरीब देशों में से एक है। समाज के निर्माण में महिलाओं की भूमिका उतनी ही प्रमुख है जितनी कि शरीर को जीवित रखने के लिये जल, वायु, और भोजन हैं। स्त्रियां ही संतति की परम्परा में मुख्य भूमिका निभाती हैं फिर भी प्राचीन समाज से लेकर आधुनिक कहे जाने वाले समाज तक स्त्रियां उपेक्षित ही रही हैं। उन्हें कम से कम सुविधाओं, अधिकारों और उन्नति के अवसरों में रखा जाता रहा है, इसी कारण महिलाओं की परिस्थिति अत्यन्त निचले स्तर पर है।

Full Text:

PDF

References


मंजू शर्मा, भारतीय राजनीति मंे महिलाओं का योगदान, राज पब्लिशिंग हाउस, जयपुर, 2009, पृ.सं.-4

मधुसूदन त्रिपाठी, महिला विकास: एक मूल्यांकन, ओमेगा पब्लिशिंग, दिल्ली, 2008, पृ.सं.-48

दीपा बिष्ट, नारी सशक्तिकरण के सौपान, अंकित प्रकाशन, नई दिल्ली, 2009, पृ.सं.-14

रेचल सिंह, महिला सशक्तिकरण एव ं लिंग भेद चुनौतियाँ एवं रणनीतिक प्रयास, पूर्वाशा प्रकाशन, भोपाल, 2008, पृ.सं.-119

आशा कौशिक, मानवाधिकार और राज्य: बदलते संदर्भ उभरते आयाम, पाइंटर पब्लिशर्स, जयपुर, 2004, पृ.सं.-214

मंजु शर्मा, भारतीय राजनीति में महिलाओं का योगदान, पूर्वाशा प्रकाशन, भोपाल, 2008, पृ.सं.-5

स्वप्निल सारस्वत, भारतीय राजनीति और महिलाएँ, अक्षरांकन प्रकाशन, नोएडा, 2003, पृ.सं.-60


Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Copyright (c) 2020 Jyoti Solanki